• Home
  • Blogs
  • LMPC Registration In Hindi

LMPC Registration In Hindi

LMPC Registration In Hindi
By

एलएमपीसी प्रमाणपत्र क्या है?

परिचय

एलएमपी का अर्थ लीगल मेट्रोलॉजी प्री-पैक्ड कमोडिटी रजिस्ट्रेशन है। मेट्रोलॉजी वजन और माप की एक वैज्ञानिक प्रक्रिया है। आपको बता दें कि भारत में लीगल मेट्रोलॉजी एक्ट 2009 में स्थापित किया गया था। यह उपभोक्ता मामलों के विभाग का एक बड़ा भाग है और माल की माप और वजन से जुड़े आयात उद्योग की देखभाल करता है।

एलएमपीसी प्रमाणपत्र

कुछ वर्षों से, आयात के लिए पहले से पैक किए गए सामानों से जुड़े जोखिम और सुरक्षा के संबंध में सख्त कार्रवाई की जा रही है। अब एलएमपीसी के नियम 27 के अनुसार सभी आयातकों, निर्माताओं और वाणिज्यिक पैकर्स के लिए पैकर पंजीकरण के लिए आवेदन करना अनिवार्य बना दिया है, और इसे ही एलएमपीसी पंजीकरण भी कहा जाता है।

आज के समय में जो भी व्यापारी प्री-पैकेज्ड सामान के आयात व्यवसाय में हैं, उन्हें पंजीकरण के लिए केंद्र सरकार में लीगल मेट्रोलॉजी के निदेशक या राज्य में लीगल मेट्रोलॉजी के नियंत्रक के लिए आवेदन करना जरूरी होगा। यदि व्यापारी का आवेदन स्वीकार कर लिया जाता है, तो ही प्राधिकरण उन्हें उनका नाम और पता दर्ज करते हुए एलएमपीसी प्रमाणपत्र प्रदान करेगा। ये पंजीकरण का अधिकार हमारी राज्य और साथ ही साथ केंद्र सरकार दोनों रखती हैं।

एलएमपीसी प्रमाणपत्र की आवश्यकता

आयातकों को एलएमपीसी प्रमाणपत्र की प्राप्त करने की विशेष आवश्यक है। एलएमपीसी प्रमाणपत्र घोषणा दिशानिर्देशों का पालन न करने पर सीमा शुल्क विभाग द्वारा आपके सामान को हिरासत में भी ले लिया जा सकता है।

एलएमपीसी प्रमाणपत्र के लाभ

व्यवसाय को इन कारणों से एलएमपीसी प्रमाणपत्र की आवश्यकता होती है। 

  • कर संग्रह की आसान ट्रैकिंग: वहीं मेट्रोलॉजी अधिनियम यह चीज़ भी सुनिश्चित करता है कि व्यापारियों और सरकार दोनों के लिए कर संग्रह में किसी प्रकार का अन्याय न हो। यह कर विभाग को खरीदार और आपूर्तिकर्ता के बीच लेनदेन का पता लगाने की अनुमति भी देता है।

  • धोखाधड़ी के जोखिम को कम करता है:  साथ ही साथ कानूनी मेट्रोलॉजी का एक महत्तवपूर्ण उद्देश्य यह भी है कि वह सुनिश्चित करता है धोखाधड़ी के काम कम से कम हो।  मेट्रोलॉजी आपूर्तिकर्ता का क्रेता से कनेक्शन दिखाता है, जिससे ट्रैकिंग आसान हो जाती है।

  • लेनदेन लागत को कम करता है: मेट्रोलॉजी की मदद से और उसके नियमों का पालन करते हुए, सही ढंग से किया गया माप समय पर माप सुनिश्चित करता है जो सभी प्रकार के खरीदार और विक्रेता के लिए लागत और समय बचाता है।

  • व्यापार बाधाओं को कम करता है: लीगल मेट्रोलॉजी अधिनियम का एक बड़ा उद्देश्य ये है कि व्यवसायों के लिए तकनीकी व्यापार बाधाओं को कम करना और साथ ही उन्हें अंतर्राष्ट्रीय व्यापार अवसरों में भाग लेने में मदद कराना भी है। यह प्रमाणपत्र राष्ट्र की आर्थिक वृद्धि का समर्थन करता है और यह कागजी कार्रवाई को कम करता है जिससे व्यापार में बेकार बाधाओं दूर होती है और दक्षता में सुधार होता है।

  • उपभोक्ता विश्वास बनाता है: एलएमपीसी प्रमाणपत्र के जरिए खरीदार को यह पता चलता है कि उन्हें एक उत्पाद मिल रहा है जिसमें कुछ नियमों और विनियमों के तहत पुष्टि की गई है तो इससे व्यापारी में उनका विश्वास और बनता है।

एलएमपीसी प्रमाणपत्र के लिए आवेदन कैसे करें?

सभी लोग एलएमपीसी प्रमाणपत्र के लिए ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों ही तरीकों से आवेदन कर सकते हैं। वहीं आपको यह भी बता दें कि अभी सभी राज्यों के लिए ऑनलाइन सुविधाएं उपलब्ध नहीं हुई हैं। ऐसे मामलों में, आपको लीगल मेट्रोलॉजी विभाग में जाना होगा और आवश्यक दस्तावेजों के साथ एक आवेदन जमा करना होगा।

एलएमपीसी प्रमाणपत्र के लिए ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया इस प्रकार है:

सबसे पहले अपने राज्य की आधिकारिक औद्योगिक वेबसाइट पर जाएं और उसके बाद लॉग इन करें।

इसके बाद आवेदन अनुभाग पर क्लिक करें।

फिर यहां पर अपना नाम, आयात पता और वस्तु का नाम जैसे सभी विवरण भरें।

अब नीचे सूचीबद्ध सहायक दस्तावेज़ अपलोड करें:

  • आईईसी या आयातक-निर्यातक कोड

  • जीएसटी पंजीकरण प्रमाणपत्र

  • पहचान और पते का प्रमाण

  • आवेदक का पासपोर्ट आकार का फोटो

  • घोषणा का लेबल

  • आवेदक की आधार आईडी 

  • साझेदारी फर्मों के लिए पंजीकृत साझेदारी/किसी कंपनी के लिए लेखों का ज्ञापन 

  • आवेदक का जन्म प्रमाण पत्र (वैकल्पिक)

  • साइट का स्थान मानचित्र (वैकल्पिक)

  • प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड या ऐसे प्राधिकरण से एनओसी (वैकल्पिक)

  • परिसर के स्वामित्व/पट्टे का प्रमाण (वैकल्पिक)

जब आप अपने सभी दस्तावेज़ सत्यापित कर देंगे तो आपके पास एलएमपीसी प्रमाणपत्र एक प्रतिनिधि से कॉल आएगा और वह आपको आगे की औपचारिकताओं पर मार्गदर्शन करेगा। लगभग 10 से 12 दिनों में आपकी सत्यापन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

एलएमपीसी प्रमाणपत्र की लागत कितनी है?

एलएमपीसी प्रमाणपत्र के लिए सभी आवेदकों के लिए ₹500 का आवेदन शुल्क अनिवार्य है। वहीं यदि किसी भी कारणों से आयातक को प्रमाणपत्र में कोई बदलाव करने की आवश्यकता है, तो उसे इसके लिए ₹100 का अतिरिक्त शुल्क देना होगा।

एलएमपीसी प्रमाणपत्र की प्रयोज्यता और छूट

आयात के लिए एलएमपीसी प्रमाणपत्र के नियमों का उल्लंघन करने पर जुर्माना लगाया जाता है। जैसे-

  • किसी भी नियम 21 से 37 के प्रावधानों के उल्लंघन पर 4,000 रुपये का जुर्माना लगाया जाता है। 

  • वहीं अन्य नियमों का किसी भी प्रकार से उल्लंघन जिसके लिए कोई सजा का उल्लेख नहीं किया गया है, पर 2000 रुपये का जुर्माना लगाया जाता है।

  • साथ ही  साथ यदि आप आयात शुरू होने के 90 दिनों के भीतर एलएमपीसी के लिए आवेदन करने में विफल रहते हैं, तो आपको विलंब शुल्क का भुगतान करना अनिवार्य होगा।

वहीं, प्री-पैकेज्ड सामान के आयात पर कुछ छूटें भी हैं, जो इस प्रकार हैं:

  • किसी रेस्तरां या होटल द्वारा वसायुक्त भोजन वाले पैकेज

  • औषधि (मूल्य नियंत्रण) आदेश, 1995 के अंतर्गत आने वाली तैयारी वाले पैकेज

  • 10 ग्राम या 10 मिलीलीटर या उससे कम के शुद्ध वजन या माप वाले सामान या वस्तुएं

  • 50 किलोग्राम से अधिक के पैकेज में कृषि उत्पाद

एलएमपीसी प्रमाणपत्रों की आवश्यकता?

एलएमपीसी प्रमाणपत्र आयातक के अधिकारों को मजबूत करमे में मददगार है और यह प्रमाणपत्र ये भी सुनिश्चित करता है कि सामान और वस्तुओं को निकासी प्रक्रिया के माध्यम से सफलतापूर्वक पारित किया गया है। वहीं यदि आपके पास एलएमपीसी प्रमाणपत्र नहीं है तो सीमा शुल्क विभाग आपके माल को विलंबित या अस्वीकार भी कर सकते है। इससे आयातक के व्यवसाय पर बहुत बड़ा नकारात्मक प्रभाव पड़ता है और अनावश्यक दंड का भी सामना करना पड़ सकता है।

निष्कर्ष

इस पूरे आर्टिकल में एलएमपीसी प्रमाणपत्र के संबंध में सभी आवश्यक जानकारी दी गई है, जैसे कि एलएमपीसी प्रमाण पत्र क्या है, पूर्व और आवेदन प्रक्रिया के उल्लंघन के लिए नियम और दंड शामिल हैं। आशा है कि, इस आर्टिकल दावारा आपको आपके सभी सवालों के जवाब मिल गए होंगे।

अक्सर पूछे जाने वाले कुछ सवाल

प्रश्न: एक LMPC प्रमाण पत्र की लागत कितनी है?

उत्तर: एक LMPC प्रमाणपत्र की कीमत ₹500 है

प्रश्न: एलएमपीसी प्रमाणपत्र के दो अलग-अलग प्रकार क्या हैं?

उत्तर: यहां लीगल मेट्रोलॉजी प्री-पैकेज्ड कमोडिटीज नियम, 2011 के तहत दो प्रकार के एलएमपीसी प्रमाणपत्र हैं- एलएमपीसी आयातक पंजीकरण और नियम 27 के तहत एलएमपीसी पैकर और निर्माता पंजीकरण।

प्रश्न: LMPC प्रमाण पत्र का अर्थ क्या है?

उत्तर: यह प्रमाण पत्र कानूनी रूप से पूर्व-पैकेज्ड वस्तुओं के सभी आयातकों पर बाध्यकारी है। यह सीमा शुल्क अधिकारियों को आपके उत्पादों को तेजी से साफ करने में सक्षम बनाता है।

 


Top BIS Consultant
ISI Mark Certificate
BIS For Toys
BIS For Toys Non Electronic
BIS For Electronic Toys
BIS Lithium ion Batteries
BIS Footwear
BIS Precast Concrete
BIS Products Certificate Mark
BIS Registration For IT Products
BIS NOC Steel
BIS Certification For Drinking Water
BIS Aluminium Foils
BIS Revoerse Ro
BIS Steel Pipes
BIS HDPE Pipes
BIS Cement Certificate
BIS For Milk Products
BIS Milk For Dairy Products
BIS Mark Registration
Evtl India Certificate Consultant
BIS Certification
BIS CRS Registration
ISI Mark Certification
BIS Registration for Textiles
Top BIS Consultant
BIS Consultant Mumbai
ISI Mark Consultant Gujrat
BIS ISI Consultant Mumbai
ISI Mark Agent
Best BIS Reagistration Consultant
BIS Online Registration
Apply BIS Certificate
BIS Mark Registration Consultant
How To Get ISI Mark Certificate
BIS Compulsory Registration Scheme
EMI EMC Test
Whatsapp call now mail
Call
Enquiry
Whatsapp